(Best) Child Labour Essay in Hindi | बाल मजदूरी पर निबंध 2021

 child labour essay in hindi : बाल श्रम पिछले कुछ दशकों के साथ-साथ वर्तमान में भी सबसे बड़ी समस्याओं में से एक है। आजकल यह कुछ हद तक कम हो रहा है लेकिन कहीं-कहीं यह बढ़ भी रहा है। छात्रों से बाल श्रम निबंधों पर बड़ी संख्या में स्कूल-कॉलेज निबंध पूछे जाते हैं ताकि यह महसूस किया जा सके कि एक बच्चे के रूप में काम करने के बाद का काला भविष्य कुछ समाज के साथ-साथ देश के लिए भी अच्छा नहीं है। इस निबंध ke प्रतियोगी परीक्षाओं में भी बहुत सारे प्रश्न पूछे गए हैं।

हम Child Labour Essay in Hindi में क्या सीखने जा रहे हैं

भारत में बाल श्रम का मुख्य कारण क्या है

भारत में बाल श्रम की समस्या क्यों है

बाल श्रम को कैसे रोका जा सकता है

Child Labour Essay in Hindi 250 Words : बाल मजदूरी पर निबंध

पिछली कुछ शताब्दियों में भारत जैसे कई देश विकास के पथ पर अग्रसर हुए हैं। उस समय परिवार नियोजन और देशभक्ति कुछ हद तक विकसित हो रही थी। इसी संदर्भ में सभी देशवासियों के कुछ गांवों और अर्ध-शहरी क्षेत्रों में आजीविका का कोई साधन नहीं है। 

 माता-पिता घर पर शिक्षित नहीं थे, इसलिए शिक्षा निर्वाह का साधन नहीं थी और उस समय कुछ हद तक कृषि उपलब्ध नहीं थी। इसलिए मजदूरी का विकल्प स्वीकार किया गया। ऐसे में घर के सबसे छोटे बच्चों को भी कड़ी मेहनत के लिए इस्तेमाल किया जाता था। तो उन छोटों का भविष्य बहुत ही अंधकारमय था।

Child Labour Essay in Hindi 250 Words

अतीत में, यदि परिवार में कोई व्यक्ति शारीरिक श्रम कर रहा था, तो घर के बच्चे भी थोड़े से पैसे के लिए इस शारीरिक श्रम के लिए जाते थे। जहां देश को आगे बढ़ने के लिए लड़कियों को शिक्षित करने की जरूरत थी।

वहां बच्चों को मजदूरी का काम करना पड़ता था। इससे देश का भविष्य खतरे में है। साथ ही देश बहुत बड़े पैमाने पर गुलामी के दौर से गुजर रहा था।

भारतीय संस्कृति को भुलाया जा रहा था क्योंकि विदेशी शक्तियां देश पर आक्रमण करती रहीं। इस प्रकार, स्वतंत्रता के समय से, भारत मजबूती से खड़ा होने लगा था। प्रत्येक भारतीय शिक्षक के लिए अपने पैरों पर खड़ा होना बहुत जरूरी था।

हम खुद को और देश को विकसित करने के लिए खुद को और देश को कैसे विकसित कर सकते हैं। यह भी देखा जाना चाहिए, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि बाल श्रम को खत्म करना और छोटे बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा में लाना है।

दुनिया का कोई भी देश उन देशों के जिम्मेदार नागरिकों से ही महान बनता है। एक जिम्मेदार पीढ़ी बनाने के लिए कम उम्र से ही कार्रवाई की जाती है। शिक्षा और फिर उद्योग के अवसर उपलब्ध होने पर हर कोई एक बेहतर नागरिक बन जाता है।

 लेकिन फिर भी कुछ जगहों पर बाल श्रम देखने को मिलता है। यह बाल श्रम हमेशा देश और समाज के लिए अच्छा नहीं होता है, एक तरफ कुछ बच्चे उच्च शिक्षित हो जाते हैं। और कला, खेल और व्यवसाय बहुत बड़े पैमाने पर अपना नाम कमा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर कुछ बच्चे बाल श्रम के कारण हमेशा अपना भविष्य अंधकारमय बना रहे हैं।

अगर देश में बाल श्रम बढ़ता है, तो लोग निजी लाभ और धन के लिए कुछ कर सकते हैं। श्रमिकों को बचपन में जो व्यसन होंगे उनमें तंबाकू गुटखा खाना और शराब पीना उनकी दिनचर्या बन जाएगी। एक बार जब बाल श्रम बड़ा हो जाता है, तो उसे control करना बहुत मुश्किल होता है।

ठीक होने की कोशिश करने के बजाय, वे अपने दुख में डूब जाते हैं और इस प्रकार, अधिक विफलता का अनुभव करते हैं। इस वजह से हमें बाल श्रम के बारे में बहुत सोचना पड़ता है।

Child Labour Essay in Hindi 250 Words

भारत की भूमि आध्यात्मिक और सार्वभौमिक सत्य की भूमि है। भारत वह भूमि है जो पूरी दुनिया को प्रेरित करती है। हमें उस संस्कृति को विकृत नहीं करना चाहिए जो भारत ने भविष्य में हासिल की है। भारत में बच्चों को श्रम से मुक्त किया जाना चाहिए।

साथ ही बाल श्रम को कम करना चाहिए। हमें इस तथ्य से भी अवगत होने की आवश्यकता है कि हमें कुछ स्थानों पर इससे छुटकारा पाने में सक्षम होना चाहिए। इसी तरह, होटल, निर्माण कंपनियों, निजी कारखानों, सार्वजनिक उद्यमों में बाल श्रम बड़े पैमाने पर है।
अगर ऐसा होता है तो हमें इसे सरकार के संज्ञान में लाना चाहिए और सुजान को भारत का नागरिक बनाने का प्रयास करना चाहिए।

भारत में बाल श्रम का मुख्य कारण क्या है?

1) भारत में बहुत गरीबी है। इस गरीबी के कारण माता-पिता अपने बच्चों को शिक्षित करने में असमर्थ हैं, जिसके कारण बाल श्रम में भारी वृद्धि हुई है।

2) भारत में गरीबी और अशिक्षा के कारण लोगों को विभिन्न सूचनाओं और योजनाओं की जानकारी नहीं है। तो उन लोगों के राजनेता आसानी से इसका फायदा उठा रहे हैं।

3) नशे और लापरवाही की आदत के कारण, कुछ भारतीय देशों में माता-पिता अपने बच्चों को स्कूल न भेजने और परिवार की आय बढ़ाने की उम्मीद में अपने बच्चों को काम पर भेजते हैं। नतीजतन, भारत में बाल श्रम बढ़ रहा है।

4) जनसंख्या वृद्धि के कारण गरीबी और निरक्षरता बढ़ रही है, जो बाल श्रम का मुख्य कारण है। जनसंख्या वृद्धि के कारण बेरोजगारी भी बढ़ रही है। जिसका बाल श्रम की रोकथाम पर बहुत बड़ा प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

5) सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े समाज में अशिक्षित माता-पिता के कारण बाल श्रम का मुख्य कारण बढ़ रहा है।

6) भारत के साथ-साथ दुनिया में भी कुछ परिवार ऐसे हैं जिनके घर में नशे की लत या विकलांगता के कारण कोई कमाने वाला नहीं है। अतः उस परिवार के भरण-पोषण का एकमात्र कारण बाल श्रम ही है जो बाल श्रम का प्रमुख कारण भी है।

भारत में बाल श्रम की समस्या क्यों है?

भारत में हाल के वर्षों में बाल श्रम में कमी आई है। इसके बावजूद भारत में कुछ मजबूर मजदूर विभिन्न उद्योगों में काम करते नजर आ रहे हैं। जैसे ईंट भट्ठे में काम करने वाले बाल मजदूर। कपड़ा कंपनियों में बाल श्रमिक कार्यरत हैं। खदानों में बाल मजदूर काम कर रहे हैं। इस प्रकार भारत में बाल श्रम बढ़ रहा है।

Child Labour Essay in Hindi

बाल श्रम और बच्चों का निरंतर शोषण देश की अर्थव्यवस्था के लिए एक निरंतर खतरा है। छोटे बच्चों पर हमेशा गंभीर और अल्पकालिक और दीर्घकालिक प्रभाव होते हैं।

बाल श्रम को कैसे रोका जा सकता है?

1) बाल श्रम को रोकने के लिए सबसे पहले उन देशों में गरीबी को कम किया जाना चाहिए। क्योंकि बाल श्रम बाल श्रम का प्रमुख कारण है।

2) बाल श्रम को रोकने का दूसरा तरीका शिक्षा का प्रसार करना है क्योंकि एक अशिक्षित व्यक्ति बाल श्रम को नहीं समझता है। यदि शिक्षा को बढ़ावा दिया जाता है तो बाल श्रम पर हमेशा प्रतिबंध रहेगा और लोग बाल श्रम के प्रति जागरूक होंगे।

3) बाल श्रम को रोकने का तीसरा तरीका बेरोजगारी को खत्म करना या बेरोजगारी पर अंकुश लगाना है। बेरोजगारी का मतलब है कि लोग अपने परिवार का Palan-पोषण नहीं कर सकते, अपने बच्चों को बाल मजदूर या बाल मजदूर के रूप में काम करने के लिए छोड़ देते हैं।

 अगर बेरोजगारी खत्म होती है तो हम अपने बच्चों को पढ़ने-लिखने के लिए भेजते हैं ताकि उनका बचपन और भी खुशहाल हो।


दोस्तों अगर आपको बाल श्रम पर निबंध पसंद आया हो तो कृपया नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें बताएं हम आपके लिए हमेशा नए निबंध लेकर आते रहते हैं।

इसे भी जरूर पढ़ें

Post a Comment

Previous Post Next Post