Environment Essay in Hindi | पर्यावरण पर निबंध (UPSC Essay)

 environment essay in hindi :   नमस्कार दोस्तों, आज हम पर्यावरण पर एक निबंध देखने जा रहे हैं। यदि आप स्कूल और कॉलेज में हैं, तो आपको पर्यावरण के बारे में एक निबंध लिखने के लिए बहुत कुछ कहा जाता है। कॉलेजों और स्कूलों में निबंध प्रतियोगिताएं भी आयोजित की जाती हैं। इसमें पर्यावरण पर निबंध बहुत Baar पूछा गया है। हमने इस पर ध्यान दिया है और आपके लिए पर्यावरण पर एक निबंध लाया है। साथ ही यदि आप किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो निबंध आपके लिए बहुत उपयोगी हो सकता है। आइए अब पर्यावरण पर  निबंध dekhe।

हम Environment Essay in Hindi में क्या सीखने जा रहे हैं

जंगल क्या है

पर्यावरण क्या है

वन और पर्यावरण पर निबंध

पर्यावरण और मानव पर निबंध

Environment Essay in Hindi 200 Words :  पर्यावरण पर निबंध

आज की दुनिया में हमें एक सस्ता जीवन जीने के लिए स्वच्छ और सुंदर वातावरण की आवश्यकता है। लेकिन अगर हम पर्यावरण की उपेक्षा कर रहे हैं तो यह मनुष्य के लिए एक बड़ी समस्या है। सबकी खास बात यह है कि आप अपने परिवेश के बारे में जानते हैं। और पर्यावरण को स्वच्छ रखना आज हमारे लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका बन गया है।

environment

पर्यावरण में हमेशा वे सभी प्राकृतिक संसाधन होते हैं जो हमारे आसपास कई तरह से हमारी मदद करते हैं। वे हमेशा आपको बढ़ने और विकसित होने का एक शानदार तरीका प्रदान करते हैं। आपको इस वातावरण से मुक्त इस ग्रह पर अपना जीवन जीने के लिए आवश्यक सब कुछ मिलता है। 

इसके अलावा यदि आप अपने पर्यावरण में स्थायी रूप से अच्छा रहना चाहते हैं और साथ ही अपने जीवन को हमेशा अच्छी तरह से पोषित रखना चाहते हैं तो आपको अपने पर्यावरण के लिए हमेशा मदद करनी चाहिए। मानव निर्मित तकनीकी आपदाओं के कारण हमारे पर्यावरण के तत्व दिन-ब-दिन घटते जा रहे हैं।

पृथ्वी पर जीवन को बनाए रखने के लिए हमें पर्यावरण की मौलिकता को बनाए रखने की जरूरत है। पूरी दुनिया में अब तक लंबा जीवन जीना बहुत मुश्किल हो गया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पर्यावरण के मुद्दे को बहुत गंभीरता से लिया जा रहा है। 

साथ ही पर्यावरण संरक्षण और स्वच्छता के प्रति दुनिया भर में जन जागरूकता फैलाने के लिए हर साल 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है।

पर्यावरण को स्वच्छ रखने के साथ-साथ पर्यावरण को बचाने और वातावरण में ताजी हवा प्राप्त करने के लिए 'पेड़ लगाओ, जीवित पेड़ लगाओ' के आदर्श वाक्य को ध्यान में रखते हुए ऐसा किया जाना चाहिए। यहां तक ​​कि परिवार के एक पेड़ को लगाने से भी पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

पृथ्वी पर प्रत्येक व्यक्ति द्वारा उठाए गए छोटे-छोटे कदमों में हम अपने पर्यावरण को बहुत ही सरल तरीके से पढ़ सकते हैं। हमें कचरे की मात्रा भी कम करनी चाहिए कचरा पर्यावरण के लिए बहुत हानिकारक कचरा है। क्योंकि कूड़ा-करकट वहीं फेंकना चाहिए, जहां उसे डंप किया जाता है। 

आपको प्लास्टिक की थैलियों का उपयोग बंद कर देना चाहिए कुछ पुराने स्थानों में इस पद्धति का उपयोग नए तरीके से किया जा रहा है। इसलिए आप कोशिश करें कि बैग को नए तरीके से इस्तेमाल करें और साथ ही प्लास्टिक बैग मोटे बैग का भी इस्तेमाल करें।

साथ ही कुछ पुरानी चीजों को फेंकने की बजाय उन्हें ठीक करने और उनका इस्तेमाल करने की कोशिश करनी चाहिए। आपको यह भी देखने में सक्षम होना चाहिए कि कैसे कुछ टूटी हुई चीजों को सबसे कम लागत पर ठीक किया जा सकता है।

 आपको हमेशा रिचार्जेबल बैटरी का उपयोग करना चाहिए। साथ ही हमें जितना हो सके सौर ऊर्जा का उपयोग करना चाहिए। हमें यह भी देखना चाहिए कि बारिश के पानी को कैसे बचाया जाए। हमें पानी के साथ-साथ पानी में भी कचरे को कम करने के लिए उचित योजना बनानी चाहिए।

 हम पर्यावरण को इस तरह से बचा सकते हैं कि हमें बिजली का उपयोग कम से कम करना चाहिए और साथ ही पर्यावरण को बेहतरी के लिए बदलना चाहिए।

वन और पर्यावरण पर निबंध

 जंगल क्या है?

 सबसे पहले आइए जानते हैं कि जंगल क्या होता है जंगल एक ऐसी जगह है जहां ज्यादा पेड़, ज्यादा घास, ज्यादा फूल, ज्यादा जानवर होते हैं।

पर्यावरण क्या है

हम अपने आस-पास की हर चीज और दिखने वाली हर चीज को पर्यावरण भी कह सकते हैं। पर्यावरण में कार्बनिक अकार्बनिक मानव निर्मित वस्तुएं भी प्राकृतिक चीजें हो सकती हैं। इसके अलावा, प्राकृतिक रूप से पाई जाने वाली झाड़ियाँ, नदियाँ, पारिस्थितिक तंत्र, झीलें, झरने, झीलें, हवा और ठंड भी पर्यावरण कहलाने वाली चीजें हो सकती हैं।

Environment Essay in Hindi

वन और पर्यावरण पर निबंध

जंगल और पर्यावरण के बीच बहुत गहरा संबंध है। प्राकृतिक संसाधन हमेशा हमारे आसपास के जंगल और पर्यावरण से जुड़े होते हैं, जो मनुष्य को सुरक्षित और स्वस्थ रखने में बहुत बड़ी मदद है। वे मनुष्य के विकास में भी बहुत सहायक होते हैं।

 पृथ्वी को जिन प्राकृतिक चीजों की जरूरत है, वे जीवन के लिए बहुत जरूरी हैं। ये प्राकृतिक चीजें पृथ्वी पर सभी जीवित चीजों के लिए जरूरी हैं। पृथ्वी पर सभी जीवित चीजों को वनों की आवश्यकता है और पर्यावरण पृथ्वी की उपजाऊ शक्ति को बढ़ा रहा है। वन मृदा अपरदन को नियंत्रित करते हैं। जल स्तर को बनाए रखने के लिए पौधे काफी बड़े हैं।

वर्षा लाने में वन और पर्यावरण बहुत मदद कर रहे हैं। बाढ़ को रोकने के लिए वन हमेशा बड़ी मात्रा में पानी को अवशोषित करते हैं। वन सदैव पृथ्वी की उपजाऊ शक्ति को बढ़ा रहे हैं। मृदा अपरदन वृक्षों द्वारा नियंत्रित होता है। वृक्षों में बहुत वर्षा होती है। वर्षा जल स्तर को रोक सकती है। वर्षा के पीछे वनों का बहुत बड़ा योगदान है।

पर्यावरण प्रदूषण दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। इसलिए पेड़ों की कमी बढ़ती जा रही है। हर तरह का धुंआ और प्रदूषित हवा बढ़ रही है। नतीजतन, पर्यावरण प्रदूषण बढ़ रहा है। इससे पर्यावरण को भी काफी नुकसान हो रहा है।

पर्यावरण और मानव पर निबंध

दोस्तों आपने भूगोल में मानव और पर्यावरण के बीच के संबंध का अध्ययन किया होगा। प्रसिद्ध अमेरिकी भूगोलवेत्ताओं के अनुसार, मनुष्य पर्यावरण का मूल है। यह भी मानव पर्यावरण का एक उत्पाद है। साथ ही मानव ने अपने परिवेश में संघर्ष करते हुए अपने वर्तमान स्वरूप को प्राप्त किया है।

विश्व की समस्त ग्रामीण एवं शहरी जनसंख्या पर्यावरण से प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित है। यह पर्यावरण के अधिकांश पहलुओं में है कि जलवायु का मानव समाज और उनके जीवन के तरीके पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है।

 जलवायु का सीधा प्रभाव बड़ी संख्या में जानवरों की प्रजातियों पर पड़ता है। यह सीधे आंखों, नाक, शरीर रचना, बाल, ठोड़ी, माथे को प्रभावित करता है।

पर्यावरण लगातार बदल रहा है इसलिए पर्यावरण हमेशा आगे बढ़ रहा है। भूतकाल में पृथ्वी के निर्माण के बाद से पृथ्वी की सतह और वायुमंडल में कई परिवर्तन हुए हैं। लेकिन वर्तमान समय में मनुष्य पृथ्वी और पर्यावरण में भारी परिवर्तन कर रहा है।

 आज के जलवायु परिवर्तन में मनुष्य सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है। विज्ञान और तकनीक की मदद से मनुष्य अपने वातावरण में तेजी से बदलाव लाने में सक्षम हुआ है।


पर्यावरण पर निबंध के बारे में आप कैसा महसूस करते हैं, हमें टिप्पणियों में बताना सुनिश्चित करें

इसे भी जरूर पढ़ें

Post a Comment

Previous Post Next Post