जल्दी जिला कलेक्टर बनने की पूरी जानकारी [9 Best Tips]

      नमस्कार दोस्तों, आज हम एक बहुत ही महत्वपूर्ण चर्चा करने जा रहे हैं कि Collector Kaise Bane। दोस्तों आजकल हर कोई कलेक्टर, तहसीलदार बनना चाहता है, लेकिन सही मार्गदर्शन सभी को नहीं मिलता। इससे उनका कलेक्टर बनने का सपना कुछ हद तक साकार नहीं हो पाता है तो दोस्तों आज हम आपके लिए कलेक्टर कैसे बने इसकी बहुत ही विस्तृत जानकारी लेकर आए हैं। कलेक्टर कैसे बने इस जानकारी को पढ़कर आप एक दिन कलेक्टर जरूर बनेंगे। यह लेख कलेक्टर बनने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करता है। तो आइए जानें कलेक्टर कैसे बने के बारे में

collector kaise bane

कलेक्टर कैसे बनें पूरी प्रक्रिया और जिला कलेक्टर बनने के लिए क्या करें

दोस्तों नीचे दिए गए पॉइंट्स में हमने आपको कलेक्टर बनने के बारे में बहुत विस्तृत जानकारी दी है। हमें इन बिंदुओं को ध्यान में रखना होगा।

आपको पहले 12वीं पास करनी होगी

दोस्तों कलेक्टर बनने के लिए आप बचपन से ही कलेक्टर बनना चाहते होंगे। हमारे मन में संकल्प होना चाहिए कि हम कलेक्टर बनें।यह संकल्प हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले आपका 12वीं पास होना जरूरी है।12वीं पास करने के बाद आप डिग्री परीक्षा में प्रवेश ले सकते हैं।

कोई डिग्री होनी चाहिए

दोस्तों कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले आपको 12वीं पास करना होगा तो दोस्तों आपके लिए किसी भी ब्रांच में डिग्री होना बहुत जरूरी है। डिग्री होने के बाद ही आप कलेक्टर पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसलिए कलेक्टर बनने के लिए डिग्री बहुत जरूरी है।
collector kaise bane

UPSC exam के लिए आवेदक करे

अपनी डिग्री पूरी करने के बाद आप यूपीएससी शाखा के माध्यम से कलेक्टर बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं
दोस्तों यूपीएससी की परीक्षा साल में एक बार होती है इस परीक्षा के लिए आवेदन फरवरी के महीने में भरे जाते हैं।

जिला कलेक्टर के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी | कैसे बन सकते हैं आप जिला कलेक्टर, जानिए पूरा प्रोसेस

कलेक्टर कौन होता है

मित्रो सीधे शब्दों में कहें तो कलेक्टर एक आईएस अधिकारी होता है जो जिले का मुखिया होता है। जिला कलेक्टर के अधीन होता है। कलेक्टर शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए कार्य कर रहा Hota है।

कलेक्टर बनने के लिए योग्यता

कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले आपके पास किसी भी विषय में डिग्री होनी चाहिए। साथ ही, दोस्तों, यह बहुत महत्वपूर्ण और आवश्यक है कि आप भारत के नागरिक हों। यदि आप भारत के नागरिक नहीं हैं, तो आप कलेक्टर नहीं बन सकते।

कलेक्टर बनने के लिए आयु सीमा

PHYSICALLY DISABLE – 21 से 42 वर्ष

GENERAL – 21 से 32 वर्ष

OBC – 21 से 32 वर्ष ( 3 वर्ष की छूूूट )

ST/SC – 21 से 32 वर्ष ( 5 वर्ष की छूूूट )

ST/SC PHYSICALLY DISABLE – 21 वर्ष से असीमित समय तक

कलेक्टर की सैलरी

एक कलेक्टर का वेतन 60,000 रुपये से 2.5 लाख रुपये तक हो सकता है।
collector kaise bane

परीक्षा और इंटरव्यू के लिए खुद को कैसे तैयार करें

कलेक्टर के पद की तैयारी के लिए उम्मीदवार को पहले परीक्षा और इंटरव्यू के हर छोटे पहलू की सावधानीपूर्वक तैयारी करनी चाहिए। प्रत्येक उम्मीदवार को प्रतिदिन समाचार पत्र पढ़ने की आदत डालनी चाहिए और साथ ही समाचार चैनल देखकर यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करनी चाहिए। 
पाठ्यक्रम के अनुसार उम्मीदवार सामाजिक विज्ञान की किताबें पढ़कर अपने सामान्य ज्ञान को बढ़ा सकते हैं। कलेक्टर पद के लिए इंटरव्यू आपके व्यक्तित्व की विशेष परीक्षा है। उम्मीदवारों को इंटरव्यू में हर प्रश्न का निष्पक्ष उत्तर देना चाहिए।

कलेक्टर बनने के लिए फॉर्म कैसे भरें

कलेक्टर बनने के लिए आपको आईएएस के लिए एक फॉर्म भरना होगा। फॉर्म भरने के लिए आपको यूपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। कलेक्टर पद के लिए पहला फॉर्म भरने से पहले आपको किसी भी शाखा से अपनी डिग्री पूरी करनी चाहिए और डिग्री के लिए अंतिम वर्ष में होना चाहिए।

डीएम और कलेक्टर में क्या अंतर है

डीएम और कलेक्टर दो अलग-अलग पद हैं और लोग इसे लेकर भ्रमित हो रहे हैं, तो दोस्तों आज हम डीएम और कलेक्टर के बारे में जानने जा रहे हैं।

कलेक्टर

रेवेन्यू कोर्ट

एक्‍साइज ड्यूटी कलेक्‍शन, सिंचाई बकाया, इनकम टैक्‍स बकाया व एरियर

राहत एवं पुनर्वास कार्य

भूमि अधिग्रहण का मध्यस्थ और भू-राजस्व का संग्रह

लैंड रिकॉर्ड्स से जुड़ी व्‍यवस्‍था

राष्‍ट्रीयता, अधिवास, शादी, एससी/एसटी, ओबीसी, आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग जैसे वैधानिक सर्टिफिकेट जारी करना

जिला बैंकर समन्वय समिति का अध्यक्षता

जिला योजना केंद्र की अध्यक्षता

कृषि ऋण का वितरण


डीएम 

ज़‍िले में कानून व्‍यवस्‍था बनाये रखना

पुलिस को नियंत्रित करना और निर्देश देना

डिस्ट्रिक्‍ट मजिस्‍ट्रेट की भूमिका में रहने वाले डिप्‍टी कमीश्‍नर ही आपराधिक प्रशासन का प्रमुख होता है

अधीनस्थ कार्यकारी मजिस्ट्रेटों का निरीक्षण करना

मृत्यु दंड के कार्यान्वयन को प्रमाणित करना

डिस्ट्रिक्‍ट के पास ज़‍िले के लॉक-अप्‍स और जेलों के प्रबंधन की जिम्‍मेदारी होती है


कलेक्टर कैसे बने का निष्कर्ष

दोस्तों, उपरोक्त लेखों में हमने आपको collector kaise bane के बारे में बहुत विस्तृत गाइड दिया है। दोस्तों अगर आप कलेक्टर बनना चाहते हैं तो इन आर्टिकल्स में दी गई सभी जानकारियों को पढ़कर आपके लिए कलेक्टर बनना बहुत जरूरी हो जाएगा। दोस्तों आपको कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं कि collector kaise bane के बारे में आपको दी गई जानकारी के बारे में आपको कैसा लगा। साथ ही हम आपके लिए करियर से जुड़ी ढेर सारी जानकारियां लेकर आए हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post