Jal Hi Jeevan Hai Essay in Hindi Short ( जल ही जीवन है )

 नमस्कार दोस्तों, आज हम उस निबंध को देखने जा रहे हैं कि जल ही जीवन है। जल आज के समय में बहुत महत्वपूर्ण है। मानव जीवन और जीवन जीना जल के बिना नहीं रह सकता।

दोस्तों आज हम जल जीवन होने पर एक निबंध देखने जा रहे हैं यह निबंध आपके जीवन में और साथ ही आपके जीवन में आने वाली परीक्षाओं में भी आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण होगा। आज हमने आपको इस निबंध को बहुत विस्तृत तरीके से देने की कोशिश की है तो आइए जानते हैं कि जल ही जीवन है, यह निबंध।

jal hi jeevan hai essay in hindi short

Jal hi Jeevan Hai Essay in Hindi Short

पानी मनुष्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। दोस्तों, हम पानी के बिना एक दिन भी नहीं रह सकते। हम पानी के बिना नहीं रह सकते। पानी का उपयोग न केवल उपभोग के लिए बल्कि विभिन्न उद्देश्यों के लिए भी किया जाता है। हम अपने हाथ और पैर पानी से धोते हैं।

मित्रों, हमें पानी की नियमित आवश्यकता होती है, जल हमें नदियों, झीलों और बारिश जैसे स्रोतों से मिलता है। पृथ्वी पर अधिकांश जल महासागरों में बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है जो कि खारे और कुछ बर्फीले होते हैं।

मित्रों, पृथ्वी पर पीने योग्य जल केवल 2% है, जल एक प्राकृतिक संसाधन है और हमें इसका संयम से उपयोग करना चाहिए। पानी को बेवजह बर्बाद करने की आदत से इंसान और जानवर खतरे में हैं।

पानी सिर्फ इंसानों के लिए ही नहीं बल्कि जानवरों, पक्षियों और पौधों के लिए भी उपयोगी है।पानी के बिना पर्यावरण को नष्ट किया जा सकता है। वर्तमान में विश्व जल में भारी गिरावट का सामना कर रहा है, जिससे न केवल ग्रामीण क्षेत्रों में बल्कि शहरों में भी पानी की समस्या उत्पन्न हो रही है।

 जल पृथ्वी पर तरल और वाष्प जैसे कई रूपों में पाया जाता है। वह परिवर्तन भाप के कारण होता है। बादल बरस रहे हैं। बारिश होने पर जल स्तर बढ़ जाता है।


पूर्व की तुलना में वर्षा में उल्लेखनीय कमी के कारण नदियों, झीलों आदि के जल स्रोत सूख रहे हैं। मनुष्यों द्वारा अंधाधुंध वनों की कटाई एक प्रमुख कारण है। वनों की कटाई ने वर्षा की मात्रा को कम कर दिया है यदि पेड़ नहीं हैं, तो बारिश कैसे होगी इसका सवाल भी बड़े पैमाने पर पैदा हो रहा है।

जैसे-जैसे पृथ्वी का तापमान बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे इसका वातावरण भी बढ़ता जा रहा है। नतीजतन, निर्जलीकरण बढ़ रहा है। मानव शरीर 70% पानी है। पानी के बिना कोई भी जीवित चीज जीवित नहीं रह सकती है। अगर यही स्थिति रही तो आने वाली पीढ़ियों को पानी भी नहीं मिलेगा।

कल कारखानों के कारण प्रदूषण बढ़ रहा है।कारखानों से निकलने वाला कचरा और दूर-दूर तक जहरीले पदार्थ नदियों और झीलों में फेंके जाते हैं। इसलिए जल प्रदूषण की विकट स्थिति कई वर्षों से बनी हुई है। कई नियम लागू होने के बाद भी लोगों को पीने का पानी नहीं मिलता क्योंकि पानी दिखाया जा रहा है.

प्रदूषित पानी कई बीमारियों को फैला रहा है। अच्छा साफ पानी मानव स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। पीने का पानी भोजन के उचित पाचन में मदद करता है। और अपने शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए आपको रोजाना आठ से दस लीटर पानी पीने की जरूरत है। रोजाना पानी पीने से आप एक्टिव रहते हैं और यह आपको हमेशा हाइड्रेट रखता है।

पानी का इस्तेमाल संयम से करना चाहिए। पानी का इस्तेमाल कभी भी बिना वजह के नहीं करना चाहिए। लोग पानी की एक बूंद के लिए तरस रहे हैं जहां आपको पानी का उपयोग करने की आवश्यकता है। वर्षा के दौरान वर्षा जल को एक स्थान पर एकत्रित करने की प्रक्रिया को वर्षा जल संचयन भी कहा जाता है। लोगों को पानी बचाने के लिए पेड़ लगाने पड़ते हैं, इसलिए औद्योगिक कारखानों को सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि पानी प्रदूषित हो रहा है।

ऐसी फैक्ट्रियों के दूषित पानी को नदी के पानी में नहीं मिलाना चाहिए और लोगों को किसी भी तरह का कचरा और बेकार सामान पानी में नहीं फेंकना चाहिए। अक्सर यह देखा गया है कि लोग अपने वाहनों को धोने के लिए कई लीटर पानी ले जाते हैं, जिसे जनता द्वारा नियंत्रित करने की आवश्यकता होती है। वृक्षारोपण की विधि अपनाई जानी चाहिए और भारत में अधिक से अधिक वृक्षारोपण करना चाहिए।


निष्कर्ष

दोस्तों जल ही जीवन है। यह निबंध आपसे कई बार विभिन्न परीक्षाओं में पूछा जा चुका है। दोस्तों, पानी आपके जीवन के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण उपकरण है।

इसलिए आज हम आपके लिए इस तथ्य पर एक बहुत विस्तृत और महत्वपूर्ण निबंध लेकर आए हैं कि जल ही जीवन है। यदि आप भविष्य में यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं तो यह निबंध आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

Post a Comment

Previous Post Next Post